चल चले इश्क मुहल्ले जानिब 

क्या पता खोयी हँसी फ़िर मिल जाये 

बिगड़े नसीब को लकीर मिल जाये 

जो यार का हाथ फ़िर मिल जाये !

Advertisements